उत्तर प्रदेश के हाथरस गैंगरेप केस मुद्दे पर सियासत लगातार तेज होती जा रही है। बसपा-सुप्रीमो और यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने गुरुवार को UP-CM Yogi Adityanath पर करार हमला बोला उन्होंने कहा, ‘योगी आदित्यनाथ इस लायक नहीं हैं कि उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था संभाल पाएं‘ वह महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित नहीं कर सकते तो UP-CM Yogi को इस्तीफा दे देना चाहिए। मैं केंद्र सरकार से आग्रह करती हूं कि उन्हें उनके स्थान गोरखनाथ मठ भेज दिया जाए।

बसपा सुप्रीमो और यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती

बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कानून व्यवस्था को लेकर योगी सरकार पर अब तक का सबसे बड़ा हमला बोला है। गुरुवार को एएनआई से बातचीत में उन्होंने कहा कि UP-CM Yogi Adityanath प्रदेश की कानून व्यवस्था संभालने में पूरी तरह नाकाम साबित हुए हैं। एक भी दिन ऐसा नहीं जाता है जब महिलाओं के खिलाफ अपराध न होते हों…। बसपा-सुप्रीमो मायावती ने कहा कि अगर वह कानून-व्यवस्था नहीं संभाल सकते तो उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए। उन्होंने कहा कि मैं केंद्र सरकार से गुजारिश करती हूं कि योगी को गोरखपुर मठ भेज दिया जाए और प्रदेश में जनता के हित के लिए राष्ट्रपति शासन लगा देना चाहिए।

बसपा-सुप्रीमो मायावती ने कहा कि यूपी में अपराधी, माफिया और बलात्कारी अब बेलगाम हो चुके हैं और UP-Government इन्हें रोकने में पूरी तरह नाकाम साबित हुई है। उन्होंने कहा कि हाथरस के सामूहिक दुष्कर्म कांड के बाद मैंने उम्मीद की थी कि प्रदेश सरकार अपराधियों के खिलाफ कड़े फैसले लेगी लेकिन बलरामपुर में भी हाथरस जैसा कांड हो गया और एक दलित छात्रा की दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी गई। जो कि बताता है कि प्रदेश में अपराधियों के हौंसले बढ़े हुए हैं और सरकार बेबस है।

हाथरस गैंगरेप पर बोलीं बसपा-सुप्रीमो मायावती, UP में सुरक्षित नहीं बहन-बेटियां

हाथरस गैंगरेप केस UP-Police द्वारा हाथरस की गैंगरेप दलित पीड़िता के शव को उसके परिवार को न सौंपकर उनकी मर्जी के बिना व उनकी गैर-मौजूदगी में ही कल आधी रात को अन्तिम संस्कार कर देना लोगों में काफी संदेह व आक्रोश पैदा करता है। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) पुलिस के ऐसे गलत रवैये की कड़े शब्दों में निन्दा करती है
अगर माननीय सुप्रीम कोर्ट इस संगीन प्रकरण का स्वयं ही संज्ञान लेकर उचित कार्रवाई करे तो यह बेहतर होगा, वरना इस जघन्य मामले में यूपी सरकार व पुलिस के रवैये से ऐसा कतई नहीं लगता है कि गैंगरेप पीड़िता की मौत के बाद भी उसके परिवार को न्याय व दोषियों को कड़ी सजा मिल पाएगी- बसपा-सुप्रीमो मायावती

01-10-2020-BSP PRESS NOTE-REMOVE INCAPABLE U.P. CM

जिस सरकार की पुलिस 8 दिनतक बलात्कार की FIR नहीं लिखती, जिला प्रशासन 15 दिनतक जिला अस्पताल में इलाज के नाम पर खानापूर्ति करता रहा, उसी सरकार का प्रशासन मौत के बाद शव को कब्जे में लेकर परिजनों को अंतिम दर्शन और दाह संस्कार तक नही करने दिया, खुद पेट्रोल डालकर शव को जलाया, वही सरकार अब एसआईटी गठित करके क्या दिखाना चाहती है। शव जल गया, सबूत खत्म, रिपोर्ट उसी पुलिस की मर्जी से बनी है जो बलात्कार, जीभ काटने और रीढ़ की हड्डी टूटने को नकार चुकी है।अब एसआईटी बनी और मामला खत्म। जिस मीडिया को कल तक इस घटना पर एक खबर ना दी थी आज उन मीडिया वालों को योगी जी द्वारा कड़ी कार्यवाई का ढोल बजाने को मिल गया।

हाथरस के बाद अब बलरामपुर में एक दलित बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार करने के बाद दरिंदो ने दोनों पैर और कमर तोड़ दी गई, मुंह बंद करने के लिए घातक इंजेक्शन ठूंस कर हत्या कर दिया गया। हम लोग केवल रोष प्रकट करके श्रद्धांजलि देते हुये कठोर कार्यवाई की माँग करते रहेंगें और योगी जी मुआवजा देकर मामला शांत करते रहेंगे? बेटियाँ इस संवेदनहीन और निकृष्ट सरकार में सुरक्षा, सम्मान और न्याय के लिये ऐसे ही मरती रहेंगी। क्योंकि ये सरकार सुरक्षा, सम्मान और न्याय की जगह पर किस्तों में मुआवजा देने में विश्वास रखती है।

आजमगढ़ जीयनपुर में आठ वर्ष की मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म की खबर सुनकर गम, गुस्सा और क्षोभ से स्तब्ध हूं।
क्या हो गया है उत्तर प्रदेश को कैसे सुरक्षित करें अपनी बहन बेटियों को इस सरकार में, क्योंकि योगी सरकार तो बेटियों को सुरक्षा और सम्मान जी जगह केवल मुआवजा देने पर तुली है। ( ‘योगी आदित्यनाथ इस लायक नहीं हैं कि उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था संभाल पाएं‘ – बसपा-सुप्रीमो मायावती )

https://tothepoint-news.online/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here