हाथरस गैंगरेप केस – गैंगरेप की पीड़िता के शव को आधी-रात को परिजनों की गैरमौजूदगी में आनन-फानन जलाने वाली UP-Police ने अब दावा किया है कि पीड़िता के साथ कोई रेप नहीं हुआ था। उल्टा पुलिस ने आरोप लगाया कि जातीय तनाव पैदा करने के लिए इस केस को गलत तरीके से पेश किया गया।

हाथरस गैंगरेप केस – उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले के बूलगढ़ी गांव की 19 साल की युवती के साथ बीते दिनों सामूहिक दुष्कर्म के बाद पीट-पीटकर उसकी जान ले ली गई। पुलिस ने रात के अंधरे में परिजनों की गैरमौजूदगी में उसका दाह संस्कार करवा दिया, यह समूचे देश को पता है। लेकिन UP-Police के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार ने अब दावा किया है कि दुष्कर्म हुआ ही नहीं। एडीजी प्रशांत कुमार ने कहा, “गुड़िया की मौत का कारण 14 सितंबर को उसके साथ हुई बर्बरतापूर्वक मारपीट है। लड़की के साथ दुष्कर्म नहीं हुआ था।”

UP-Police के एडीजी ने कहा कि दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल की पोस्टमर्टम रिपोर्ट के बाद आगरा में विधि विज्ञान प्रयोगशाला (फॉरेंसिक लैब) की रिपोर्ट से भी इसकी पुष्टि हो गई है कि लड़की के साथ दुष्कर्म या सामूहिक दुष्कर्म नहीं हुआ था। उन्होंने कहा कि गुरुवार को जारी पोस्टमार्टम रिपोर्ट के मुताबिक, पीड़िता की गर्दन पर चोट के निशान हैं और रीढ़ की हड्डियां भी टूटी हुई हैं। पीड़िता को ब्लड इन्फेक्शन और हार्ट अटैक भी आया था।

हाथरस गैंगरेप केस – प्रशांत कुमार ने कहा कि रिपोर्ट के अनुसार, मौत का वक्त 29 सितंबर को सुबह 6 बजकर 55 मिनट बताया जा रहा है। इस मामले में पीड़िता की फॉरेंसिक साइंस लैब की रिपोर्ट आ गई है। इसमें भी उसके साथ दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि आगरा की लैब से मिली रिपोर्ट में युवती में शुक्राणु नहीं पाया गया है।

Prashant Kumar ने दावा किया कि कुछ लोगों ने प्रदेश में जातीय तनाव पैदा करने के मकसद से इस केस को गलत तरीके से पेश करने का प्रयास किया है। इस प्रकरण में पुलिस ने शुरू से ही त्वरित और तत्समय कार्रवाई करके माहौल बिगड़ने से बचाया। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि मामले को अनावश्यक तूल देकर माहौल खराब करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

UP-Police – एडीजी प्रशांत कुमार ने कहा, “अब हम विधिक कार्रवाई के तहत ऐसे लोगों की पहचान में लगे हैं, जिन्होंने प्रदेश के सामाजिक सद्भाव को बिगाड़ने के साथ ही जातीय हिंसा को फैलाने का प्रयास किया है। वे जवाबदेह प्रशासन की अनुमति के बिना काम करके हाथरस को दंगे की आग में झोंकना चाहते थे। ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई तय है।” उन्होंने कहा कि हाथरस की इस घटना में कुछ लोगों ने जातीय संघर्ष कराने का प्रयास किया है। अब उन्हें चिन्हित कर उनके खिलाफ भी कार्रवाई होगी।

गौरतलब है कि हाथरस गैंगरेप और हत्या मामले को लेकर UP-Government पिछले दो दिनों से बैकफुट पर है। इस मामले में कल पीड़िता के शव को आधी रात को पुलिस द्वारा जबरन जलाए जाने की खबर आने के बाद से योगी सरकार और यूपी पुलिस की देश भर में किरकिरी हो रही है। तमाम विपक्षी पार्टियां और सामाजिक कार्यकर्ता UP-Police और Yogi-Government को निशाने पर लिए हुए हैं।

हालात इतने बिगड़ गए कि PM Narendra-Modi को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बुधवार को बात करनी पड़ी, जिसके बाद प्रदेश सरकार ने इस मामले में जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया, जो कि मामले की जांच कर रही है। वहीं सीएम योगी ने वीडियो कॉल के जरिए बुधवार रात लड़की के पिता से बात की और परिवार की हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया। मृतका के परिवार के एक सदस्य को कनिष्ठ सहायक के पद पर नौकरी दी जाएगी। परिवार को 25 लाख रुपये की मदद के साथ ही हाथरस शहर में एक मकान भी दिया जाएगा।

www.tothepoint-news.online

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here